Saturday, 20 October 2012

फिर सुबह होगी

                                   फिर सुबह होगी 

                                                     रात ने ओढ़ रखा है 
                                                     घने कुहरे को 
                                                     बना कर काली चादर 
                                                     इंतज़ार है उसे सुबह का 
                                                     जब वो उतार फेंके गी 
                                                     इस आवरण को 
                                                     और निखर जाएगी  
                                                     दुधिया उजली धुप-सी 
                                                     जानती है वो 
                                                     साँझ के होते ही 
                                                     फिर दुबक जाना है उसे 
                                                     काली देह में 
                                                     खुद से खुद डरती-सी 
                                                     मगर! खुश है इस बात से 
                                                     कि फिर सुबह होगी!
                                                                    -सुषमा भंडारी 

                                                     

Thursday, 18 October 2012

हाइकु / सुषमा भण्डारी

बाजारवाद ,
लेकर आया अब
नए संवाद ।

सहमा घर
है खिलौनों का डर
लगी नज़र ।

शब्द तोल
हृदय को टटोल
सोच के बोल

मुनाफाखोरी
पैदा करता आया
सदा से होरी ।

दिवाली पर्व
मनाएँ कुछ यूं भी
सब हों खुश ।